blogid : 53 postid : 314

माओवादी कौन है?

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अपनी ममता दीदी (ममता बनर्जी, मुख्यमंत्री) ने माओवादी की नई परिभाषा बनाई, बताई है। यह कुछ इस प्रकार है। जो आदमी (पब्लिक) सबके सामने मुख्यमंत्री से सवाल पूछेगा, वह माओवादी है।
दीदी ने अपनी इस परिभाषा को साकार किया है। उनकी पुलिस ने शिलादित्य चौधरी को इसलिए जेल भेज दिया, चूंकि उसने दीदी से उनकी सभा में किसानों के बारे में सवाल पूछा था। उसने दीदी से जानना चाहा था कि सरकार, किसानों के लिए क्या कर रही है? बेचारे किसान, रुपये न होने के चलते मर रहे हैं। सरकार के खोखले वायदे काफी नहीं हैं। मुझे लगता है दीदी खुद बहुत बदल गईं हैं। इसलिए उनकी परिभाषा भी बदल गई है।
चलिए, यह दीदी की परिभाषा है। खुद माओवादियों ने अपनी परिभाषा बनाई हुई है। आजकल पब्लिक की नजरों में यह इस प्रकार है- माओवादी वे हैं, जो स्कूल की बिल्डिंग उड़ाते हैं। उनको माओवादी कहते हैं, जो सड़क नहीं बनने देते हैं। वे आंखें, जो विकास या इसकी रोशनी बर्दाश्त नहीं कर पाती हैं। माओवादी उनको कहते हैं, जो लेवी लेने के बाद ठेकेदार को ईमानदारी का सर्टिफिकेट देते हैं। माओवादी वे हैं, जिनको रुपये देने के बाद मौज में रहा जा सकता है; मजे की लूट की जा सकती है। माओवादी, राजधानी एक्सप्रेस को दुर्घटनाग्रस्त कराते हैं। माओवादी वे कहलाते हैं, जिनके बारूदी सुरंग विस्फोट में बेकसूर भी मारे जाते हैं। माओवादी वे हैं, जो चुनाव का बहिष्कार करते हैं और उनके कामरेड चुनाव भी लड़ते हैं। माओवादी वे हैं, जिनकी पहली कतार मौज को जीती है। माओवादी, जातीय व्यवस्था के खिलाफ जोरदार पर्चा जारी करते हैं लेकिन स्वयं इस पूर्वाग्रह से बुरी तरह ग्रसित हैं।
अब जरा माओत्से तुंग को सुनिए। उन्होंने कहा था-कुछ ही दिनों के अंदर दसियों करोड़ किसान एक प्रबल झंझावात की तरह उठ खड़े होंगे। यह एक ऐसी अद्ïभुत वेगमान और प्रचंड शक्ति होगी, जिसे बड़ी से बड़ी ताकत भी नहीं दबा सकेगी। किसान अपने उन समस्त बंधनों को, जो अभी उन्हें बांधे हुए हैं, तोड़ डालेंगे और मुक्ति के मार्ग पर तेजी से बढ़ चलेंगे। वे सभी साम्राज्यवादियों, युद्ध सरदारों, भ्रष्टïाचारी अफसरों, स्थानीय निरंकुश तत्वों और बुरे शरीफजादों को यमलोक भेज देंगे।
माओवाद के इस परिभाषित उद्देश्य के दायरे में अभी का माओवाद फिट है? नई परिभाषाएं तय करने की सहूलियत किसने दी है? कौन जिम्मेदार है? माओवादी, किसानों के लिए क्या कर रहे हैं? यह मोर्चा, बिहार के संदर्भ में उनके लिए एक और परिभाषा बनाता है-माओवादी, किसानों के दुश्मन हैं।
माओ के विचारों को आधार बना जन फौज, आधार इलाका निर्माण, देहात के बाद शहर और फिर राजसत्ता पर कब्जा की रणनीति हो या यह तल्ख माओवादी समझ कि युद्ध का खात्मा सिर्फ युद्ध से; बंदूक से छुटकारा पाने के लिए बंदूक उठाना जरूरी; सत्ता का जन्म बंदूक की नली से होता है, बेशक माओवाद की स्थापित व बुनियादी परिभाषा को जिंदा रखने की कोशिश है लेकिन नई और लगातार बदलती परिभाषाएं …? माओवादी, इसके जिम्मेदार को बताएंगे?
अपने जमाने की मशहूर नक्सली जमात भाकपा माले (लिबरेशन) भी एक मायने में परिभाषा बदलने की जिम्मेदार है। लम्बी दास्तान है। उसने संसदीय रास्ता अख्तियार किया। तेलंगाना का रास्ता हमारा रास्ता, चीन के चेयरमैन हमारे चेयरमैन जैसे नारे किनारे पड़े।
एक और विडंबना देखिये। नई परिभाषा गढ़ती हुई दिखती है। 1964 में भाकपा टूटी। 18 मार्च 1967 को पश्चिम बंगाल में वाम मोर्चा की सरकार बनने के बाद नक्सलबाड़ी दमन छुपा नहीं है। किसने और क्यों ढाये अपने ही कामरेड साथियों पर जुल्म? बड़ी लंबी दास्तान है, जो वामपंथियों के हर स्तर की टूट को गद्दारी का शब्द देती है। यह नई परिभाषा है।
यह परिभाषा भी जानिए। थोड़ी पुरानी बात है। भाकपा माले ने एक विधानसभा चुनाव के पहले एमसीसी के खिलाफ पर्चा जारी किया- मध्य बिहार के औरंगाबाद, जहानाबाद, गया व दक्षिणी बिहार के गिरिडीह, चतरा, डाल्टेनगंज व हजारीबाग जिलों में चुनाव बहिष्कार की घोषणा करने वाले एमसीसी का जनता दल के साथ गुप्त समझौता हुआ है। इसके तहत एमसीसी ने इन जिलों में जद उम्मीदवारों को जीताने का बीड़ा उठाया है। बूथ कब्जा तक की योजना बनी है। प्रति बूथ पांच से दस हजार रुपये की कीमत चुकाई गई है। ऐसी करीब पांच सौ बूथें हैं। जवाब में एमसीसी ने लिबरेशन का चेहरा नंगा किया था। यानी, माओवादी वो भी हैं, जो साथियों, समान विचारधारा वालों को बेहिचक मारते हैं। एमसीसी ने चुनाव बहिष्कार को सफल बनाने को ढेर सारे खूनी उत्पात किए। और उसके कई कामरेड खुद चुनाव भी लड़े। माओवादी, दोहरापन भी दिखाते हैं।
बिहार में सत्तर के दशक में नक्सली आंदोलन की नींव पड़ी। तब से अब तक उनकी यात्रा को देखें, तो इस दौरान कई और परिभाषाएं बनी, बिगड़ी हैं। पहले हिंसा में भी अनुशासन था। अब …! आखिर माओवादी कौन है? कोई बताएगा?

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

shuklaom के द्वारा
August 29, 2012

माओवादी कौन है इसे समझाने के लिए डॉ.अमबेडकर द्वारा संविधान सभा में गणतंत्र दिवस की पूर्व अपने अंतिम महत्वपूर्ण भाषण पर निगाह डालना होगो जिसके अनुसार —— ” कल से हम एक ऐसे युग में प्रवेश करने जा रहे है जहा हम एक व्यक्ति एक वोट को मान्यता दे रहे होगे वही कुछ सामाजिक एवं आर्थिक कारणों से हम इससे इंकार कर रहे होगे/ जितनी जल्दी हो सके असमानता को समाप्त करना होगा नहीं तो हासिए के बंचित एवं उपेक्चित लोग इस लोकतान्त्रिक ढांचे को उखाड़—फेकेगे जिसे हम लोगो ने इतने मेहनत से बनाया है| आपको यह भी ध्यान रखना चाहिए कि आज हम जिन स्थितिओ का सामना कर रहे असमानता का प्रतिशत लाखो गुने का हो चूका है और अभी बढ़ता ही जा रहा है.आखिर क्यों आजादी के ६५ साल बाद ही सरकार को एकाएक आदिवासियो के विकास हेतु चिंतित होने लगी क्या इसी लिए कि आदिवासियो के निवास स्थानों के गर्भ में सोने,.चाँदी लोहे,इत्यदि का जखीरा है तो फिर तो जबर्दस्ती आदिवासियो को अर्धसैनिक बलोंऔर कोबरा बटालियन इतादी कुख्यात नामो से लैश आपरेशन -ग्रीन-हंट द्वारा आदिवासियो के सफाए से बचाने के लिए जिन्हें भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय के अनुसार आजादी के बाद ४०%आदिवासियो का विस्थापन एक या एक से अधिक बार हो चुका है. जहा तक बात बिहार की है तो आखिर क्यों संवैधानिक प्राविधानो के अनुसार न्यनतम मजदूरी के लिए हमेशा संघर्ष रहा है १९४९ में मैहर में पहले डैम का उदघाटन के अवसर पर इसे विकास का मंदिर कहा था लेकिन शर्म की बात है कि उस मंदिर के भूमि अधिग्रहण का मामला अदालतों में घिसट रहा है. धूमिल ने इन्ही के बारे में कहा था कि —— फैली हुई हथेली का नाम गाय है और,बढ़ी मुठ्ठी का नाम नक्सलवादी है :| |

ashokkumardubey के द्वारा
August 15, 2012

मेरी राय में माओवादी वाही है जो समाज में बैमंशय फैलाकर गरीब और पिछड़े वर्ग के लोगों को गुमराह करने का कम करता है और यह सीख उनको वर्तमान पार्टी नेताओं से मिली है आज नेता क्या कर रहें हैं चाहे वे किसी पार्टी के हों , वे केवल और केवल समाज में जात पात एवं संप्रदाय के नाम पर झगडे बढ़ने का कम कर रहें हैं उनको पता है जब समाज बता रहेगा तो ये पार्टी नेता किसी एक जाती या समुदाय को बरगला कर उन्हें झूठा आशवासन देकर चुनाव जीत लेगा और फिर तो वह वाही करेगा जो आज दीखता है भले यह अनपढ़ गवार जनता अपने वोट की कीमत न समझती हो और न यह समझती हो जो लोग उसे सब्जबाग दिखा रहें हैं वे चुनाव बाद उन्हें दिखाई भी नहीं देंगे और उनको जो आज प्राप्त है वे उससे भी मोहताज हो जायेंगे क्यूंकि हर चुनाव में कोई नया आरक्छन देने का वैयदा ये नेता कर देते हैं और धीरे धीरे यह आरक्छन भी सौ प्रतिशत हो जायेगा फिर ये किस बिरादरी को आरक्छन देंगे आज जो जाट आन्दोलन हो रहा है यह उसी आरक्छन के लौलिपप का परिणाम है और यह माओवादी भी हर चुनाव में अपना शक्ति परिक्छां करते हैं खुद चुनाव नहीं लड़ते तो किसी पार्टी को जितने का ठेका भी लेते हैं क्यूंकि वे बीहड़ो और जंगलों में रहते हैं और चुनाव के समय वे आम जनता के बीच घुल मिल जाते हैं और जो उनके जंगल राज को जिन्दा रहने देने में मदद करने का आश्वासन देता है उसे चुनाव में जीत दिलाने का कम करते हैं चुकी अब चुनाव आयोग भी कुछ हद तक बूथ कब्जे खिलाफ कार्रवाई करने लगा है तो ये लोग रात में गरीबों की बस्ती में डरा धमका कर भी वोट दिलवाने का कम करते हैं और यह बिहार में अभी भी होता है कुछ इलाकों में और यही कारन है की इस देश की पुलिस और सुरक्छा बल इनको पकड़ने में कामयाब नहीं हाँ पुलिस एवं एनी सुरक्छा बालों की जान पर आफत जरुर है और उनकी जान चली जाये तो मलाल इसका किसको है अपने देश में बेरोजगारी आज इतनी बृहद स्टार पर है की लोग पैसे देकर जान गवाने के लिए तैयार हैं यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण सत्य है यहाँ कोई बहाली बगेर पैसे दिए होती नहीं इसलिए भी जो जवान सब तरह से उस पद के लिए योग्य होते हुए भी घुस नहीं देने के चलते उस रोजगार से भी वंचित रह जाता है और वह इतना निराश हो जाता है की फिर किसी ऐसी संस्था के साथ हिन् जुड़ जाता है कम से कम अपने जान का रस्क लेकर परिवार तो पलता है आज देश की यही सच्चाई है और इस अमोवाद ने अभी और मजबूत होना है क्यूंकि यह सरकार द्वारा पोषित दल है एक अच्छा लेख आपने लिखा है धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran