blogid : 53 postid : 803557

सिस्टम का जेंडर!

  • SocialTwist Tell-a-Friend

डेंगू के डंक से बचने की जी-तोड़ कोशिश में मर्द और उसकी मर्दानगी के बारे में कुछ नया ज्ञान हुआ है। आपसे शेयर करता हूं।

मेरी राय में मर्द अपनी मर्दानगी को तार्किक बनाए रखने और साबित किए रहने के लिए खूब इंतजाम किए हुए हैं। सामने वाले को बेहद कमजोर बता मर्दानगी जताने का पुराना तरीका रहा है। मर्द, मर्दानगी बताने को अपनी सुविधा से शब्द और सिचुएशन, दोनों का सहारा लेते हैं। इस क्रम में मच्छर और हिजड़ा जैसे शब्दों का सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता है। यह इसीलिए कि मर्दों का शाब्दिक अर्थ अपने मूल भाव में कायम रहे। वह मर्द रहे। मर्द कहलाए। नाना पाटेकर के इस फिल्मी डायलाग से कि एक मच्छर आदमी को … बना देता है, मर्दानगी का पूर्ण भाव जाहिर है।

मैंने जानबूझकर खाली जगह छोड़ दी है। इसके कई कारण हैं। सबसे बड़ा यह कि अब चुनाव आयोग ने भी खाली जगह वाली शख्सियत के लिए थर्ड जेंडर का इस्तेमाल किया है। फिर, अनेक मौकों पर इस जमात ने मर्दों और उनकी मर्दानगी की औकात व असलियत खुलेआम की है। चलिए, इसकी चर्चा फिर कभी। अभी आदमी के इस सिस्टम में एक मच्छर, उसकी ताकत को देखिए।

मैं देख रहा हूं-एक मच्छर ने मर्द सिस्टम को उसकी औकात बता दी है। सिस्टम, इसको चलाने वाला आदमी गंगा किनारे मरीन ड्राइव बना सकता है, मेट्रो चला सकता है, सेटेलाइट से इंदिरा आवास की मॉनीटरिंग कर सकता है, यानी वह सबकुछ कर सकता है लेकिन मच्छर को नहीं मार सकता है।

मैं देख रहा हूं-पटना नगर निगम के आयुक्त और मेयर, सौतन की तरह लड़ रहे हैं। मर्द सिस्टम चुपचाप देख रहा है। लोकतंत्र की अवधारणा से दुनिया को वाकिफ कराने वाले बिहार में मच्छर एजेंडा बन गए हैं। मैं दिन नेता प्रतिपक्ष नंदकिशोर यादव को सुन रहा था। वे मच्छर के हवाले सरकार की पुरजोर आलोचना कर रहे थे। जब वे सरकार में थे, तब क्या मच्छर नहीं थे? डेंगू, मलेरिया, कालाजार इनसेफ्लाइटिस, जापानी इनसेफ्लाइटिस …, इसी शुक्रवार को सामने आए हैं? कुछ पुरानी बातें याद आ रहीं हैं। अश्विनी कुमार चौबे नगर विकास मंत्री थे। विधानसभा में मच्छरों के प्रकार बता रहे थे। उसका असर बता रहे थे। पटना को पेरिस बना रहे थे। चले गए। मच्छर के आगे नहीं चली। अभी सम्राट चौधरी इसी सिचुएशन में हैं। एक मच्छर के आगे …? मैं यह भी देख रहा हूं कि नेता बहाने तलाश कर लडऩे में बच्चों को फेल किए हुए हैं। मच्छर पूरी तन्मयता से अपने काम में जुटे हैं।

बहरहाल, मुझे लगता है कि इस पृष्ठभूमि में यह सवाल बड़ा लाजिमी है-आखिर इस सिस्टम का जेंडर क्या है? यह स्त्रीलिंग है? पुलिंग है? थर्ड जेंडर है या …? प्लीज, कोई मेरी मदद करेगा?

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran